व्यापारी ने एक हजार करोड़ की चीनी राखी का आर्डर किया रद्द,स्वदेशी राखी ही मार्किट में उपलब्ध…

ट्रेडिंग


The merchant canceled the order of one thousand crore Chinese Rakhi: इस बार चीन को भारत में बने रेशम के डोर से बड़ा झटका मिलने वाला है। देश के सात करोड़ व्यापारियों ने चीन की राखी को न बेचने का फैसला किया है। चीन के लगभग एक हजार करोड़ रुपये के ऑर्डर रद्द कर दिए गए हैं। यही नहीं, भाइयों की कलाई पर स्वदेशी बंधन को सजाने के लिए व्यापक तैयारियाँ भी चल रही हैं। इससे आत्मनिर्भर भारत मजबूत होगा और लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा।

रक्षाबंधन पर चीन की राखी न बेचने का फैसला
चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए, देश के खुदरा व्यापारियों के संगठन, कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने भारतीय सामान-हमारा अभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत रक्षाबंधन पर चीनी राखी नहीं बेचने का फैसला किया गया है। कैट से जुड़े देशभर के सात करोड़ खुदरा व्यापारी स्वदेशी राखियों को बेचेंगे। कैट के राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि चीन से राखी मंगवाने वाले देशभर के व्यापारियों ने करीब एक हजार करोड़ के ऑर्डर रद्द कर दिए हैं। व्यापारी स्थानीय नागरिकों को भारत के सभी प्रांतों में स्वदेशी राखी बनाने और बेचने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। दिल्ली के 10 बड़े थोक डीलरों ने भी चीन से राख प्राप्त करने के आदेश को रद्द कर दिया है। ये व्यापारी पूरे देश में एक हजार करोड़ की चीनी राखी बेचते थे।

भुस्कुटा ट्रस्ट राखी का निर्माण कर रहा है
मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े भाऊ साहेब भुस्कुटे ट्रस्ट द्वारा लाखों स्वदेशी राखी बनाए जा रहे हैं। ट्रस्ट के प्रबंधक धर्मेंद्र गुर्जर ने कहा कि सैकड़ों लोग स्वदेशी आशियाने बनाकर रोजगार पा रहे हैं। बांस और रेशम के धागों से आकर्षक राखी बनाई जा रही है। होशंगाबाद जिले के 28 गांवों में इन राखियों को बहुत कम कीमत में वितरित किया जाएगा। ट्रस्ट से जुड़ी शिक्षण संस्थाओं में पढ़ने वाली बहनें अपने भाइयों की कलाई पर स्वदेशी राखी सजाएंगी।

जन जागरूकता अभियान चलाना
राज्य सचिव और भोपाल कैट के प्रवक्ता विवेक साहू ने कहा कि कैट के माध्यम से हम स्वदेशी राखी बेचेंगे। इस बार चीनी राखी नहीं बेचेंगे। संगठन से जुड़े सात करोड़ व्यापारियों ने हमें सहमति दी है। इसके साथ, हमारे आत्मनिर्भर भारत अभियान से देश में एक हजार करोड़ से अधिक का लाभ होगा। लाखों लोगों को इससे रोजगार मिलेगा।

CopyAMP code

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *