जानिए, ISRO की 5 बड़ी उपलब्धियां जिन्होंने भारत को दिलाई पहचान

ट्रेडिंग


डेस्क: पिछले कुछ सालों में इसरो ने स्पेस विज्ञान के क्षेत्र में इतनी बड़ी बड़ी उपलब्धियां हासिल किया हैं। जिससे पूरी दुनिया हैरान हैं। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे इसरो के उन उपलब्धियों के बारे जिन उपलब्धियों से इसरो ने पूरी दुनिया में भारत को नयी पहचान दिलाई। तो आइये इसके बारे में जानते हैं विस्तार से।

PSLV :
इसरो ने 1990 में ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) को विकसित किया था। जो दुनिया के लिए एक बड़ी मिसाल थी। 1993 में इस यान से पहला उपग्रह ऑर्बिट में भेजा गया जो भारत के लिए गर्व की बात थी। इससे पहले यह सुविधा केवल रूस के पास थी। इस यान ने पूरी दुनिया में भारत को एक नयी पहचान दिलाई।

चंद्रयान :
2008 में इसरो ने चंद्रयान-1 भेजकर पूरी दुनिया को हैरान कर दिया था। यह मिसन पूरी तरह से सफल था। 22 अक्टूबर 2008 को इसरो ने इस स्वदेश निर्मित इस मानव रहित अंतरिक्ष यान को चांद पर भेजा गया था। इससे पहले ऐसा सिर्फ छह देश ही कर पाए थे। इससे इसरों ने पूरी दुनिया में भारत को एक अलग पहचान दिलाया।

मंगलयान :
इसरो ने मंगलयान भेजकर भारत को दुनिया के नक्शे पर चमका दिया। मंगल तक पहुंचने में पहले प्रयास में सफल रहने वाला भारत दुनिया का पहला देश बना। इससे पहले अमेरिका, रूस और यूरोपीय स्पेस एजेंसियों को कई प्रयासों के बाद मंगल ग्रह पहुंचने में सफलता मिली थी।

जीएसएलवी मार्क 2 :
जीएसएलवी मार्क 2 का सफल प्रक्षेपण भी भारत के लिए बड़ी कामयाबी थी। इससे इसरों ने पूरी दुनिया में भारत को एक नई पहचान दिलाई। क्योंकि की इसमें भारत ने अपने ही देश में बनाया हुआ क्रायोजेनिक इंजन लगाया था। इसके बाद भारत को सैटेलाइट लॉन्च करने के लिए दूसरे देशों पर निर्भर नहीं रहना पड़ा।

एक साथ 104 उपग्रहों का प्रक्षेपण:
इसरो एक ही रॉकेट के माध्यम से रिकॉर्ड 104 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण कर इतिहास रच दिया था। जिसके बाद पूरी दुनिया भारत के इस स्पेस एजेंसी पर फ़िदा हो गया हैं। इसरो के इस रिकॉड सफलता ने पूरी दुनिया में भारत को एक नयी पहचान दिलाई।

CopyAMP code

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *