भारत के आश्चर्य : पांडवों ने अज्ञातवास में बनवाया था मंदिर, स्तंभ छूते ही बज उठती हैं स्वर लहरियां

ट्रेडिंग


New Delhi : कई प्राचीन मंदिरों से जुड़े रहस्य हमेशा लोगों को हैरान करते रहते हैं। इन प्राचीन मंदिरों के बारे में हमेशा ही कुछ-न-कुछ अनोखा सुनने के लिए मिलता रहता है। इसी तरह का एक अत्यंत प्राचीन मंदिर तमिलनाडु के तिरुनेलवेली में स्थित है, जो कि नेल्लईअप्पार मंदिर के नाम से प्रख्यात है। भोलेनाथ की एक प्रतिमा इस मंदिर में विद्यमान है, जिसका निर्माण 700 ईस्वी में किया गया था। अपनी खूबसूरती के लिए तमिलनाडु का यह मंदिर दुनियाभर में प्रख्यात है। संगीत स्तंभ भी इस मंदिर को कहा जाता है। इसके पीछे की वजह यह है कि इस मंदिर के खंभों से आप चाहें तो मधुर संगीत की धुन आराम से निकाल सकते हैं।

Dr.Rajesh Singh
@DrRSingh1969
प्राचीन भारत!
वास्तुकला और इंजीनियरिंग का युग था!

तिरुनेलवेली का नेल्लईअप्पार मंदिर 700ई मे बना!
इसे संगीत स्तंभ भी कहते है!
पत्थर के खंभों से मधुर संगीत की धुन!

मंदिर के 161 खंभे से संगीत की ध्वनि!
3 तरह के खंभे!
-श्रुति स्तंभ
-गण थूंगल
-लया थूंगल

अपना प्राचीन भारत महान!
🙏

View image on TwitterView image on TwitterView image on TwitterView image on Twitter
24
1:02 PM – May 26, 2020
Twitter Ads info and privacy
See Dr.Rajesh Singh’s other Tweets

सातवीं शताब्दी में तिरुनेलवेली के इस मंदिर का निर्माण किया गया था। ऐसी मान्यता है कि पांडवों ने इस मंदिर का निर्माण किया था। मंदिर का फैलाव 14 एकड़ में है। इसके मुख्य द्वार की लंबाई 850 फीट और चौड़ाई 756 फीट की है। सातवीं शताब्दी के श्रेष्ठ शिल्पकारों में से एक निंदरेसर नेदुमारन ने संगीत खंभों का निर्माण किया था।
मंदिर में जो खंभे बने हैं, उनसे मधुर धुन बाहर आती है। श्रद्धालुओं के बीच कौतूहल बना रहता है। घंटी जैसी मधुर ध्वनि इन खंभों से निकलती हुई सुनने को मिलती है। आप भी चाहें तो इन मंदिर के खंभों से संगीत निकाल सकते हैं। वास्तुकला इस मंदिर की बड़ी ही लाजवाब व अद्भुत है। यहां 48 खंभे एक ही पत्थर को तराश कर बना दिये गये हैं। मुख्य खंभे को इन सभी 48 खंभों ने घेर रखा है। मंदिर में उन खंभों की संख्या 161 है, जिनसे संगीत की धुन बाहर आती है। हैरान करने वाली बात यह है कि यदि आप एक खंभे से ध्वनि निकालने का प्रयास करते हैं तो यहां बाकी खंभों में भी कंपन उत्पन्न होने लगता है। खंभों से बाहर आती ध्वनि का रहस्य पता लगाने के लिए अब तक इस पर कई शोध भी किये जा चुके हैं।

§ønālį 🇮🇳
@8177sonali
महादेव एवं माँ पार्वती को समर्पित नेल्लईअप्पार मंदिर,तिरुनेलवेली,तमिलनाडु में स्थित है।
यहाँ के स्तंभ जो शास्त्रीय संगीत के 7स्वरों का उत्पादन कर सकते हैं,उंगलियों से स्तंभों को टैप करने पर स्पष्ट रूप से उठने वाले सप्तसुरों को सुना जा सकता है।
अद्भुत,अद्वितीय👌😍#WalkToTemples

View image on Twitter
38
10:57 AM – Sep 26, 2019
Twitter Ads info and privacy
55 people are talking about this
एक शोध की मानें तो इस मंदिर में पत्थर के जो खंभे बने हुए हैं, वे तीन श्रेणियों में बटे हुए हैं। इनमें से पहली श्रेणी को श्रुति स्तंभ कहते हैं। दूसरी श्रेणी गण थूंगल के नाम से जानी जाती है। वहीं, तीसरी श्रेणी लया थूंगल की है। शोध में बताया गया है कि श्रुति स्तंभ और लया थूंगल के बीच दरअसल पारस्परिक संबंध बना हुआ है। यही वजह है कि जब श्रुति स्तंभ पर कोई टैप करता है तो लया थूंगल से भी आवाज बाहर आनी शुरू हो जाती है। ठीक उसी प्रकार से जब कोई लया थूंगल पर टैप करता है तो ऐसे में श्रुति स्तंभ से भी ध्वनि का बाहर निकलना शुरू हो जाता है।

CopyAMP code

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *